विश्व प्रसिद्ध इस्लामी विद्वान मौलाना वहीदुद्दीन खान का निधन, पीएम मोदी ने जताया शोक

0
20
मौलाना वहीदुद्दीन खान का निधन

विश्व प्रसिद्ध इस्लामी विद्वान मौलाना वहीदुद्दीन खान का बुधवार को निधन हो गया। वे 96 साल के थे। उन्हें हाल ही में कोरोना वायरस से संक्रमित होने की वजह से दिल्ली के अपोलो अस्पताल में भर्ती कराया गया था। वहीदुद्दीन खान के पुत्र डॉ. जफरुल इस्लाम खान ने बताया कि उन्होंने रात करीब दस बजे दिल्ली के अपोलो अस्पताल में अंतिम सांस ली।

उन्होंने बताया कि उन्हें कोरोना वायरस के संक्रमण के कारण गत 12 अप्रैल को अस्पताल में भर्ती कराया गया था। बृहस्पतिवार को उनको दिल्ली में सुपुर्द-ए-खाक किया जाएगा। मौलाना वहीदुद्दीन ने कुरान का अंग्रेजी में आसान अनुवाद किया और इस्लाम धर्म पर कई किताबें लिखी है। वह बड़े इस्लामी विद्वानों में गिने जाते थे।

मौलाना वहीदुद्दीन खान का जन्म एक जनवरी 1925 को उत्तर प्रदेश के आजमगढ़ में हुआ था। उन्हें इसी साल पदम् विभूषण से सम्मानित करने की घोषणा की गई थी। साल 2000 में उन्हें पद्म भूषण से भी नवाजा गया था।

वह हिन्दू मुस्लिम-एकता के लिए जीवन भर प्रयास करते रहे और इसके लिए हमेशा तैयार रहते थे। आरएसएस और भारतीय जनता पार्टी के नेताओं से भी उनके काफी अच्छे सम्बन्ध थे। पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेई से भी उनके काफी मधुर सम्बन्ध थे।

पीएम मोदी ने जताया शोक

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने मौलाना वहीदुद्दीन खान के निधन पर शोक व्यक्त किया। प्रधानमंत्री ने गुरूवार को ट्वीट कर कहा, ‘‘मौलाना वहीदुद्दीन खान के निधन की खबर सुनकर दुखी हूं। धर्मशास्त्र और अध्यात्म के मामलों पर व्यापक जानकारी रखने के लिए उन्हें हमेशा याद किया जाएगा। सामुदायिक सेवा और सामाजिक सशक्तीकरण को लेकर उनमें जुनून था। उनके परिवार के लोगों और असंख्य शुभचिंतकों के प्रति मैं संवेदनाएं व्यक्त करता हूं। ईश्वर उनकी आत्मा को शांति दे।’’