विपक्ष के हंगामे के कारण राज्यसभा की कार्यवाही 11.30 बजे तक स्थगित

0
29

राज्यसभा में मंगलवार को विपक्षी दलों के हंगामे की वजह से सदन की कार्यवाही दो बार स्थगित कर दी गयी। विपक्ष किसान आंदोलन को लेकर हंगामा कर रहे थे।

विपक्षी दलों के सदस्यों ने शून्यकाल और प्रश्नकाल के दौरान किसानों के आंदोलन के मुद्दे को उठाया। हंगामे की वजह से पहले सदन की कार्यवाही साढ़े दस बजे और दोबारा साढ़े ग्यारह बजे तक के लिए स्थगित कर दी गयी। विपक्षी दलों के सदस्यों ने इस दौरान सदन के बीच में आकर भारी शोरगुल और नारेबाजी की।

राज्यसभा में हंगामे के दौरान सदस्यों से बार-बार अपनी सीट पर जाने का अनुरोध किया गया और कल किसानों के मुद्दे को उठाने का आग्रह किया गया। इससे पहले श्री नायडू के मामले पर अनुमति नहीं दिए जाने पर विपक्षी दल के सदस्य सदन से वाकआउट कर गए।

इसके बाद प्रश्नकाल के दौरान विपक्षी दल के सदस्य सदन में आ गए और हंगामा करने लगे। श्री नायडू ने कहा कि सदस्य इस मामले पर सदन से वाकआउट कर गए थे और उन्हें प्रश्नकाल के दौरान सदन को अव्यवस्थित नहीं करना चाहिए। उन्होंने सदस्यों से सहयोग करने का अनुरोध किया और कहा कि वह कल सदन में इस मुद्दे को उठा सकते हैं।

इससे पहले शून्यकाल के दौरान तृणमूल कांग्रेस के सुखेन्दू शेखर राय, राष्ट्रीय जनता दल के मनोज झा, भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के विनय विश्वम तथा कई सदस्यों ने इस मामले को उठाया था।

गौरतलब है कि किसान केन्द्र सरकार के तीन कृषि कानून के विरोध में राजधानी दिल्ली की सीमाओं पर पिछले दो महीने से अधिक समय से धरने पर बैठे हुए हैं और तीनों कृषि कानूनों को रद्द करने की मांग पर अड़े हुए हैं।