अनिल देशमुख पर परमबीर सिंह ने लगाया सनसनीखेज आरोप, कहा- सचिन वाझे को दिया था 100 करोड़ उगाही का टारगेट

0
27
अनिल देशमुख पर आरोप

मुंबई। एंटीलिया केस में सचिन वाझे की भूमिका की जांच चल रही है। एनआईए जांच में लगातार नए खुलासे हो रहे हैं। अब महाराष्ट्र के गृहमंत्री अनिल देशमुख का नाम भी सचिन वाझे के साथ जुड़ गया है। मुंबई के पूर्व पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह ने उनपर सनसनीखेज आरोप लगाया है।

परमबीर सिंह ने मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को चिट्टी लिखकर कहा कि गृहमंत्री अनिल देशमुख ने सचिन वाझे को हर महीने 100 करोड़ रुपए की उगाही करने के लिए कहा था। चिट्ठी में परमबीर सिंह ने आरोप लगाए हैं कि अनिल देशमुख ने सचिन वाझे से प्रत्येक महीने बार, रेस्तरां और अन्य प्रतिष्ठानों से 100 करोड़ रुपए की उगाही करने के लिए कहा था।

परमबीर सिंह के आरोप पर अनिल देशमुख ने कहा, ‘एंटीलिया केस और मनसुख हिरेन केस में सचिन वाझे के सीधे लिंक सामने आ रहे हैं। परमबीर सिंह को डर है कि इसके कनेक्शन उसके पास पहुंच जाएंगे। उन्होंने कानूनी कार्रवाई से खुद को बचाने के लिए ये झूठे आरोप लगाए हैं।”

अनिल देशमुख पर इस सनसनीखेज आरोप के बाद बीजेपी महाराष्ट्र सरकार पर हमलावर हो गई है। बीजेपी नेता किरीट सोमैया ने कहा है कि गृह मंत्री अनिल देशमुख वसूली का धंधा करते थे। सचिन वाझे उनका वसूली एजेंट था। बीयर बार से लेकर हर जगह से वसूली का काम करते थे। गृह मंत्री अनिल देशमुख को तुरंत हटा देना चाहिए।

बीजेपी के ही राम कदम ने कहा कि 16 महीने से महाराष्ट्र में ठाकरे की सरकार है, जिस वजह से 1600 करोड़ रुपये हो गए। कई जिले और कई शहर हैं, वहां से भी कई करोड़ रुपये के लिए कहा गया होगा। पुलिस डिपार्टमेंट एक डिपार्टमेंट है। उसी प्रकार 22 विभाग हैं तो क्या हर मंत्री ने अपने विभागों को वसूली करने के आदेश दिए हैं।

राम कदम ने कहा कि सरकार जनता की रक्षा के लिए होती है, लेकिन तीन दलों की सरकार ने जनता का शोषण करने को कहा। इतना घिनौना काम कभी भी नहीं हुआ। अगर थोड़ी भी शर्म बची है तो जिम्मेदार मंत्री तुरंत इस्तीफा दे दें।

बता दें कि मुंबई पुलिस के पूर्व अधिकारी सचिन वाझे पर उद्योगपति मुकेश अंबानी के घर के बाहर विस्फोटकों से भरी स्कॉर्पियो पार्क करने वाली टीम में शामिल होने का आरोप है। उन्हें एनआईए ने हाल ही में गिरफ्तार किया है। इस मामले में एनआईए गहनता से जांच कर रही है।