शांति और परस्पर लाभ के लिए महासागरीय देशों को एकजुट होना होगा – रक्षामंत्री राजनाथ सिंह

0
113
रक्षामंत्री राजनाथ सिंह

नई दिल्ली। रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने हिंद महासागर क्षेत्र की मौजूदा चुनौतियों को देखते हुए महासागरीय देशों से सुरक्षा, शांति और परस्पर लाभ के लिए एकजुट होने का आहवाहन किया। उन्होंने कहा कि हिंद महासागर से लगते देशों को शांति और सुरक्षा का माहौल सुनिश्चित करने के लिए अर्थव्यवस्था, व्यापार, नौसेना और समुद्री क्षेत्र में उच्च स्तर पर सहयोग किये जाने की जरूरत है।

रक्षामंत्री राजनाथ सिंह एयरो इंडिया के दौरान आयोजित रक्षा मंत्रियों के सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि हिंद महासागर सब देशों की साझा संपत्ति है लेकिन मौजूदा समय में इसमें समुद्री डकैती, नशीले पदार्थों तथा लोगों की तस्करी, मानवीय आपदा जैसी बड़ी चुनौती है। राजनाथ सिंह ने कहा कि एकजुट होकर और समुद्री क्षेत्र में सहयोग बढ़ाकर हम इन चुनौतियों का सामना कर सकते हैं क्योंकि आज किसी एक देश का खतरा दूसरे देश के लिए खतरा बनकर सामने आ सकता है।

दक्षिण चीन सागर में चीन द्वारा अपना प्रभुत्व बढ़ाने की कोशिशों का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि हमने दुनिया के कुछ समुद्री क्षेत्रों में परस्पर टकराव वाले विभिन्न दावों का नकारात्मक असर देखा है। इसलिए हमें यह सुनिश्चित करना होगा कि हिंद महासागर क्षेत्र में शांति बनी रहे और सभी देश इस साझा संपत्ति का फायदा उठाए।

रक्षामंत्री ने कहा कि भारत हिंद महासागर के देशों को मिसाइल प्रणाली, हल्के लड़ाकू विमान तथा हेलिकॉप्टर, युद्धपोत, गश्ती नौका, तोप प्रणाली, टैंक, रडार, सैन्य वाहन, इलेक्ट्रॉनिक वारफेयर प्रणाली और अन्य हथियार प्रणाली देने को तैयार है ताकि हम तमाम तरह की चुनौतियों से निपट सकें।