हामिद करजई और अब्दुल्ला अब्दुल्ला हुए नजरबंद, तालिबान ने किया इनकार

0
19
हामिद करजई और अब्दुल्ला अब्दुल्ला

काबुल। अफगानिस्तान में काबुल एयरपोर्ट पर आत्मघाती हमलों के बीच तालिबान ने पूर्व राष्ट्रपति हामिद करजई और पूर्व विदेश मंत्री अब्दुल्ला अब्दुल्ला को नजरबंद कर दिया है। इसके साथ ही तालिबान ने इन दोनों वरिष्ठ अफगान नेताओं की सुरक्षा भी हटा दी है। ये दोनों नेता तालिबान के साथ सरकार बनाने की बातचीत में भी शामिल थे।

इस घटना के सामने आने के बाद तालिबान ने अपनी प्रतिक्रिया दी है। तालिबान प्रवक्ता ने ऐसी किसी भी घटना से इनकार किया है। हालांकि बताया जा रहा है कि तालिबान ने इन दोनों नेताओं की कारों को भी जब्त कर लिया है।

खबरों के मुताबिक, हामिद करजई और अब्दुल्ला अब्दुल्ला इस समय पूरी तरह से तालिबान के कब्जे में हैं। तालिबान ने बुधवार को अब्दुल्ला अब्दुल्ला के घर की तलाशी ली थी। इससे पहले तालिबान ने अफगानिस्तान पर शासन करने वाली अपनी 12 सदस्यीय परिषद में करजई, अब्दुल्ला अब्दुल्ला और तालिबान के सह-संस्थापक अब्दुल गनी बरादर को शामिल किया था।

बता दें कि तालिबान ने अफगानिस्तान पर 15 अगस्त को कब्जा कर लिया था। काबुल पर कब्जे के बाद राष्ट्रपति अशरफ गनी ने तत्काल देश छोड़ दिया था। जिसके बाद तालिबान एक नई सरकार बनाने की प्रक्रिया में है। इसके लिए तालिबान ने एक कमिटी भी बनाई है।

अफगानिस्तान के लगभग 95 फीसदी इलाकों पर तालिबान ने कब्जा कर लिया है। इस बार तालिबान ने दावा किया है कि वह 20 साल पहले की तरह सरकार नहीं चलाएगी। उन्होंने अपने सरकार महिलाओं को पूरा अधिकार देने की भी बात कही है। हालांकि हाल की घटनाओं को देखते हुए तालिबान के इरादों पर वहां की महिलाओं को ज्यादा भरोसा नहीं है।