क्या कांग्रेस का अविश्वास प्रस्ताव हो पाएगा सफल? जानिए पूरा गणित

0
118
हरियाणा सरकार पर खतरा

हरियाणा में बीजेपी और सहयोगी जजपा की सरकार पर खतरा मंडराने लगा है। कांग्रेस ने किसान आंदोलन के कारण सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लाने का ऐलान किया है। इस संबंध में कांग्रेस ने अपने सभी विधायकों को व्हिप जारी कर सदन में मौजूद रहने के निर्देश दिया है।

दूसरी तरफ प्रदेश की भाजपा-जजपा सरकार ने भी अपने सभी विधायकों को व्हिप जारी कर सदन में कार्यवाही के दौरान मौजूद रहने को कहा है। सूत्रों के मुताबिक, डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला ने विधानसभा सेशन के बाद अपने सभी विधायकों को डिनर पर बुलाया।

दरअसल केंद्र सरकार द्वारा लाए गए नए कृषि कानूनों को लेकर कांग्रेस हरियाणा के किसानों को यह दिखाने की कोशिश कर रही है कि किसानों का हितैषी सिर्फ कांग्रेस ही है। इस संबंध में कांग्रेस नेता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि सत्ता की लालची जजपा का भाजपा भक्त और किसान विरोधी चेहरा सबसे सामने है।

क्या कहता है गणित

हरियाणा विधानसभा में सरकार बनाने के लिए 45 सीटों की जरूरत पड़ती है। विधानसभा में विधायकों की संख्या 90 है। हालांकि अभी वोटिंग 88 के नंबर पर होगी। अभय चौटाला ने किसान आंदोलन के समर्थन में इस्तीफा दिया था और कालका सीट से विधायक को हिमाचल कोर्ट से सजा होने के बाद पद छोड़ना पड़ा था।

सरकार को बहुमत के लिए विधायकों की संख्या 45 चाहिए। BJP के 40 और जजपा के 10 विधायकों के साथ यह संख्या 50 हो जाती है। इसके अलावा सरकार को 5 निर्दलीय विधायकों का भी समर्थन हासिल है। ऐसे में सरकार पर बहुत खतरा नहीं है।

बीजेपी सरकार में मंत्री अनिल विज का कहना है कि कांग्रेस का अविश्वास प्रस्ताव विधानसभा में चारों खाने चित्त होकर गिरेगा। दूसरी तरफ पार्टी के विधायक ईश्वर सिंह का भी दावा है कि गठबंधन सरकार को किसी तरह का खतरा नहीं है।