विश्व भारती यूनिवर्सिटी के दीक्षांत समारोह में बोले पीएम – मानवता, आत्मीयता, विश्व कल्याण की भावना हमारे कण-कण में

0
39
विश्व भारती विश्वविद्यालय

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी विश्व भारती विश्वविद्यालय के दीक्षांत समारोह में डिजिटल तरीके से शामिल हुए। नई शिक्षा नीति को लेकर पीएम मोदी ने अपनी बात कही। पीएम ने नई शिक्षा नीति की खासियत को लेकर दुनिया में आतंक फैलाने वाले शिक्षित लोगों पर भी बात की।

– मेरा आग्रह है, अगले 25 वर्षों के लिए विश्व भारती के विद्यार्थी मिलकर एक विजन डॉक्यूमेंट बनाएं। वर्ष 2047 में, जब भारत अपनी आजादी के 100 वर्ष का समारोह बनाएगा, तब तक विश्व भारती के 25 सबसे बड़े लक्ष्य क्या होंगे, ये इस विजन डॉक्यूमेंट में रखे जा सकते हैं।

– भारत जो है, जो मानवता, जो आत्मीयता, जो विश्व कल्याण की भावना हमारे रक्त के कण-कण में है, उसका ऐहसास बाकी देशों को कराने के लिए विश्व भारती को देश की शिक्षा संस्थाओं का नेतृत्व करना चाहिए।

– गुरुदेव ने विश्वभारती में जो व्यवस्थाएं विकसित कीं, जो पद्धतियां विकसित कीं, वो भारत की शिक्षा व्यवस्था को परतंत्रता की बेड़ियों से मुक्त करने, उन्हें आधुनिक बनाने का एक माध्यम थीं।

– भारत पर ब्रिटिश एजुकेशन सिस्टम थोपे जाने से पहले, थॉमस मुनरो ने भारतीय शिक्षा पद्धति और भारतीय शिक्षा व्यवस्था की ताकत देखी थी। उन्होंने देखा था कि हमारी शिक्षा व्यवस्था कितनी वाइब्रेंट है।

– आप देखिए, जो दुनिया में आतंक फैला रहे हैं, जो दुनिया में हिंसा फैला रहे हैं, उनमें भी कई Highly Learned, Highly Skilled लोग हैं। दूसरी तरफ ऐसे भी लोग हैं जो कोरोना जैसी वैश्विक महामारी से दुनिया को मुक्ति दिलाने के लिए दिनरात प्रयोगशालाओं में जुटे हुए हैं।

-अगर आपकी नीयत साफ है और निष्ठा मां भारती के प्रति है, तो आपका हर निर्णय किसी ना किसी समाधान की तरफ ही बढ़ेगा। सफलता और असफलता हमारा वर्तमान और भविष्य तय नहीं करती।

-आपका ज्ञान, आपकी स्किल, एक समाज को, एक राष्ट्र को गौरवान्वित भी कर सकती है और वो समाज को बदनामी और बर्बादी के अंधकार में भी धकेल सकती है। इतिहास और वर्तमान में ऐसे अनेक उदाहरण हैं।

पीएम मोदी ने कहा कि इस दीक्षांत समारोह में भाग लेना प्रेरणादायक और आनंदमय है। अच्छा होता अगर मैं व्यक्तिगत रूप से समारोह में भाग लेता। लेकिन नए नियमों के कारण इस कार्यक्रम में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए भाग ले रहा हूं।