ब्लैक फंगस का कहर – उत्तराखंड में ब्लैक फंगस महामारी घोषित, देश में अबतक 126 की मौत

0
18
ब्लैक फंगस के लक्षण

देहरादून। उत्तराखंड सरकार ने म्यूकर माइकोसिस (ब्लैक फंगस) को महामारी घोषित कर दिया है। चिकित्सा स्वास्थ्य एवं चिकित्सा शिक्षा अनुभाग -1 ने इसकी अधिसूचना शनिवार को जारी की। अनुभाग-1 के सचिव डॉक्टर पंकज कुमार पांडेय के मुताबिक, राज्य में ब्लैक फंगस के मरीजों की बढ़ती संख्या के मद्देनजर यह फैसला किया गया।

उन्होंने कहा कि पूर्व में घोषित कोविड-19 के तहत ही ब्लैक फंगस को सारे राज्य में महामारी घोषित किया गया है। बता दें कि अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) ऋषिकेश में ब्लैक फंगस के अब तक 61 मरीज पहुंच चुके हैं। शुक्रवार को उपचार के दौरान दो मरीजों ने दम तोड़ दिया था। यहां ब्लैक फंगस के अब तक पांच मरीजों की जान जा चुकी है। सरकार को कोरोना महामारी के बाद अब ब्लैक फंगस से निपटने में बड़ी चुनौती का सामना करना पड़ रहा है।

किन वजहों से होता है ब्लैक फंगस

फोर्टिस सेंटर फॉर डायबिटिज, ओबेसिटी एंट कोलेस्ट्रोल के डॉ. अनूप मिश्रा के मुताबिक, ल्यूकोमिया, एड्स, किडनी और लिवर रोगों से जुड़े मरीजों में म्यूकोरमाइसिस होने की आशंका अधिक होती है। इसके अलावा अस्पताल और घर की दीवारों पर फफूंदी लगने या वेंटिलेशन सिस्टम के नहीं होने और मेडिकल उपकरणों के ठीक तरीके से स्टरलाइज्ड नहीं होने की वजह से भी ब्लैक फंगस हो सकता है।

देश में 5500 से अधिक मामले, 126 की मौत

कोरोना की दूसरी लहर से मचे हाहाकार के बीच घातक ब्लैक फंगस या म्यूकरमाइकोसिस के अब तक 5,500 मरीज सामने आ चुके हैं जिनमें 126 की मौत हो चुकी है। कोरोना की तरह ब्लैक फंगस ने भी सबसे ज्यादा अटैक महाराष्ट्र पर ही किया है। हालांकि, दिल्ली, यूपी, हरियाणा, गुजरात, तमिलनाडु, राजस्थान, तेलंगाना, मध्यप्रदेश समेत कई और राज्यों में भी यह पांव फैला रहा है।