खुलासा: दगाबाज चीन ने कराया था मुंबई में ब्लैकआउट, पूरे देश को अंधेरे में डुबोने की थी तैयारी

0
38
मुंबई ब्लैकआउट

नई दिल्ली। बीते साल भारत और चीन के बीच लद्दाख के गलवान घाटी तनाव चरम पर था। दोनों ओर से भारी संख्या में सैनिक और युद्धक हथियार तैनात किए गए थे। अब चीन की एक और हिमाकत की पोल खुली है।

रिपोर्ट्स से मुताबिक, गलवान हिंसा के 4 महीने बाद मुंबई में अचानक बिजली गुल होने की वजह से ट्रेनें बंद हो गई थीं और स्टॉक मार्केट भी ठप हो गया था। बत्ती गुल होने से शहर के 2 करोड़ लोग अंधेरे में डूब गए थे। अस्पतालों में इमरजेंसी जनरेटर चालू करने पड़े थे ताकि वेंटिलेटरों चलते रहें।

अब एक नए अध्ययन से पता चला है कि ये सब घटनाएं आपस में जुड़ी थीं। मुंबई में बीते साल 12 अक्टूबर को ब्लैकआउट हुआ था। उस समय की न्यूज रिपोर्ट्स में भी भारतीय अधिकारियों के हवाले से यह दावा किया गया था कि मुंबई में साइबर हमले के पीछे चीनी साइबर अटैक हो सकता है।

अब न्यूयॉर्क टाइम्स ने रिपोर्ट दिया है कि यह सब घटनाएं चीन के एक बड़े साइबर अभियान का हिस्सा था, जिसका मकसद भारत के पावर ग्रिड को ठप करना था। इतना ही नहीं चीन ने तो यहां तक योजना बना ली थी कि अगर गलवान में भारत दबाव बनाता है तो वह पूरे देश को अंधेरे में डूबा देगा।

स्टडी से यह खुलासा हुआ है कि हिमालय में जारी गतिरोध के बीच चीनी मैलवेयर भारत में बिजली सप्लाई के कंट्रोल सिस्टम में घुस चुके थे। इसमें हाई वोल्टेज ट्रांसमिशन सबस्टेशन और थर्मल पावर प्लांट भी शामिल थे। हालांकि यह भी कहा गया है कि ज्यादातर मैलवेयर एक्टिवेट नहीं हो पाए थे। रिपोर्ट में चीनी कंपनी Red Echo हाथ बताया गया है।