किसी भी सूरत में वापस नहीं होगा कृषि कानून, संशोधन पर हो सकती है बात- तोमर

0
15

नई दिल्ली। केन्द्रीय कृषि मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर ने कृषि कानूनों को वापस लेने से साफ इंकार कर दिया है। उन्होंने कहा कि भारत सरकार तीनों कृषि कानूनों से संबंधित प्रावधानों पर किसी भी किसान संगठन से कभी भी बात करने को तैयार है।

तोमर ने ट्वीट कर कहा कि देश के किसी भी किसान संगठन को लगता है कि तीनों कानूनों में कोई खामी है और उनके पास इन खामियों को लेकर कोई सुझाव है तो केन्द्र सरकार उनसे बात करने को तैयार है, लेकिन कानून को किसी सूरत में वापस नहीं लिया जाएगा। मंत्री ने कहा कि कानून में संशोधन को लेकर कोई भी संगठन बात करना चाहता है तो वो किसान नेताओं व संगठनों का स्वागत करते हैं।

बता दें कि केन्द्र सरकार कई मौकों पर कह चुकी है कि वो तीनों कृषि कानूनों को वापस नहीं लेंगे क्योंकि ये देशभर के किसानों के हित में हैं। वहीं दिल्ली की तीनों सीमाओं पर आंदोलनकारी किसानों और उनके नेताओं का कहना है कि यह कानून कृषि विरोधी है। सरकार इन तीनों कानूनों को लाकर खेत को कॉर्पोरेट के हाथों सौंपना चाहती है।

गौरतलब है कि कृषि कानूनों को लेकर देश भर में प्रदर्शन हुए थे। दिल्ली में किसान मार्च के दौरान हिंसा हुई थी और लालकिला के प्राचीर पर धार्मिक झंडा लहराया गया था। जिसके बाद देश भर इस घटना की निंदा हुई थी। इस मुद्दे पर किसानों ने भी साफ कहा था कि जब तक कानून वापस नहीं होगा वो अपने घरों को वापस नहीं जाएंगे। किसान आज भी अपने रुख पर हैै।